Aja Ekadashi व्रत से नष्ट हो जाएँगे सारे पाप ,जाने व्रत का महत्व

Aja Ekadashiभाद्र मास के कृष्ण पक्ष में आने वाली एकादशी को Aja Ekadashi  या अन्नदा एकादशी के नाम से जाना जाता है।साल में 24 Ekadashi के व्रत होते है लेकिन जब अधिक मास आता है तब साल में एक माह और अधिक होने के कारण दो Ekadashi भी अधिक हो जाती है, जो की इस साल 2023 में है Aja Ekadashi व्रत क्या है ? इसकी जानकारी अब आप सभी को हो गई लेकिन इस Aja Ekadashi कब है ? , Aja Ekadashi का क्या महत्व है ? Aja Ekadashi Vrat Katha और Aja Ekadashi की पूजा विधि को जानना है, तो आप इस आर्टिकल को पूरा पड़ना होगा, इस आर्टिकल में आपको Aja Ekadashi के बारे में सारीजानकारी दी जाएगी।

Aja Ekadashi कब है ?

Aja Ekadashi भाद्र मास यानी अगस्त/सितंबर के कृष्ण पक्ष में आने वाली एकादशी को कहा जाता है Aja Ekadashi 2023 में यह10 सितंबर के दिन है।

Aja Ekadashi व्रत की महिमा का ब्रह्मवेव्रत पुराण में भगवान श्रीकृष्ण और महाराज युधिष्ठिर के बीच हुए संवाद में बताया गया है,जोभी एकादशी के व्रत को करते है या जो नहीं भी करते उन सभी को Aja Ekadashi व्रत की कथा को अवश्य सुनना चाहिए।

Ekadashi:क्यों करते है व्रत ,जाने व्रत के बारे में

Aja Ekadashi का क्या महत्व है ?

इस एकादशी के व्रत करने से सभी मनुष्यों के पूर्व जन्म के पाप नष्ट हो जाते है , Aja Ekadashi व्रत को समस्त पापों को नाश करने वाली एकादशी भी कहते है,इस एकादशी को अन्नदा एकादशी भी कहा जाता है,इस एकादशी के व्रत का प्रभाव ऐसा की व्यक्ति के अनेक वर्षों तक भोगने योग्य कष्ट समाप्त हो जाते है।इस अन्नदा एकादशी या Aja Ekadashi व्रत का पालन करने वाला समस्त पापों से मुक्त होकर अधियात्मिक जगत में वापस लौट जाएगा।

Aja Ekadashi वर्त की पूजा विधि

सर्वप्रथम ब्रह्म मुहूर्त में उठकर स्नान करना चाहिए उसके बाद पूजा घर आदि की साफ सफाई कर, भगवान विष्णु को गंगाजल से स्नान करवाकर पुष्प अर्पित करना चाहिए। फिर व्रत का संकल्प लेकर 108 बार ओम वासुदेव नमः का पाठ करना चाहिए, एकादशी के दिन भगवान को सात्विक पदार्थों तथा तुलसी का भोग लगाना चाहिए।

Aja Ekadashi व्रत का पारण समय

एकादशी के व्रत करने के बाद द्वादशी के दिन पारण किया जाता है , Aja Ekadashi व्रत के पारण का समय 28 अगस्त को किया जाना चाहिए ,इस दिन व्रत का पारण समय सुबह के 06:04 से सुबह 8:33 बजे तक है।

Aja Ekadashi Vrat Katha

महाराज युधिष्ठिर ने पूछा है कृष्णा भाद्र मास के कृष्ण पक्ष में आने वाली एकादशी का नाम क्या है।भगवान श्री कृष्णा उत्तर दिया समस्त पापों का नाश करने वाली इस शुभ एकादशी का नाम अन्नदा एकादशी या Aja Ekadashi है इस एकादशी का व्रत कर भगवान हृषिकेश की उपासना करने वाला समस्त पापों के फल से मुक्त हो जाता है।

एक प्रसिद्ध सत्यवादी राजा था हरिश्चंद्र अपने बचन का पालन करने के लिए उसने अपना विशाल साम्राज्य खो दिया तथा वह स्वयं को अपनी पत्नी और पुत्र तक को बेचना पड़ा। वह पूर्ण आत्मा राजा एक चंडाल का दास बन गया ,फिर भी उसने अपनी सत्य निष्ठा का पालन किया। अपने स्वामी के आदेश पर उसने मृत देहो के वस्त्र को वेतन रूप में स्वीकार किया। ऐसी सेवा के बावजूद भी वह अपने कर्तव्य से पीछे नहीं जाता, इस प्रकार उसने अनेक वर्ष तक कार्य किया और इसी स्थिति में बिता दिए।

एक दिन राजा शोक  करने लगामैं क्या करूं’ ‘मैं कहां जाऊं मेरा उद्धार कैसे होगा? राजा के शोक  को जानकर गौतम ऋषि उनके पास गए राजा ने गौतम ऋषि को सादर प्रणाम किया और हाथ जोड़कर उनके सामने खड़े हो गए उसने अपनी सारी व्यथा गौतम ऋषि को सुनाई गज के शोक को जानकर गौतम ऋषि ने हरिश्चंद्र को उपदेश दिया है ,‘राजन भाद्र मास के कृष्ण पक्ष में आने वाली एकादशी का नाम अन्नदा एकादशी या Aja Ekadashi है, यह एकादशी बहुत ही शुभ है,तुम्हें इस एकादशी का व्रत करना चाहिए। उपवास और रात्रि जागरण करना चाहिए।

इसके फलस्वरूप तुम्हारे कष्टों का कारण समाप्त हो जाएगा। ऋषि के आदेश अनुसार राजा ने अन्नदा एकादशी या Aja Ekadashi का व्रत पूरे निष्ठा औरभक्ति भाव से किया इसके बाद व्रत के फल स्वरुप वह अपने सभी कासन से मुक्त हो गया.

भगवान श्री कृष्णा बोल इस एकादशी का अद्भुत प्रभाव ऐसा है कि व्यक्ति के अनेकों अनेकों वर्षों तक भोगने योग्य कष्ट समाप्त हो जातेहैं इस एकादशी के प्रभाव से राजा हरिश्चंद्र को अपनी पत्नी पुत्र वापस मिल गए हरिश्चंद्र ने फिर निर्वाह रूप से अपना राज्य शासनकिया मृत्यु के समय वह अपने संबंधियों प्रजा के साथ आध्यात्मिक जगत लौट गए इस एकादशी का व्रत पालन करने वाला समस्तपापों से मुक्त होकर आध्यात्मिक जगत को लौट जाएगा।

ये भी जानें-

ISRO के इस मिशन पर दुनिया की नज़र,आप भी जाने इसकी खासियत

SSC Stenographer 2023:10+2 के लिए आई कई क्षेत्रों में नौकरियां, बस करना होगा आवेदन

Chandrayaan-3 का प्रोपल्शन मॉड्यूल से अलग हुआ विक्रम लैंडर

Seema Haider निभाएंगी राॅ एजेंट का किरदार!

ऑनलाइन जॉब का ऑफर कर उड़ाए 37 लाख 

Gyanvapi Survey Case : हाई कोर्ट आज सुना सकता है बड़ा फैसला

आइटीआर फाइल करने की तारीख बढ़ सकती है या नहीं?

सीमा-अंजू से प्रेरित होकर नाबालिक लड़की ने किया ऐसा काम

तेजी से फैल रहा है आई फ्लू इंफेक्शन, जाने लक्षण और बचाव के तरीके

Leave a Comment